बिहार कृषि विभाग बड़ी अपडेट अब इन किसानो को नहीं मिलेगा कोई भी कृषि अनुदान




बिहार कृषि विभाग बड़ी अपडेट

इन किसानो को नहीं मिलेगा कोई भी कृषि अनुदान

Short Description:- बिहार कृषि विभाग बड़ी अपडेट अब कुछ किसानो को कृषि अनुदान नहीं दिया जाएगा बिहार कृषि विभाग ने कल एक बैठक में फैसला लिए है की अब कुछ नियमो को और शक्त किया जाएगा और कुछ लोगो को कृषि अनुदान का लाभ नहीं दिया जाएगा




ऐसे में वो किसान होने वाले है जो की अपने खेत में परली जलाते है और जब धान कट जाता है उसके बाद जो हार्वेस्टर से बचा हुआ परली है उसे कही उपयोग करने के वजाय अपने खेत में ही उसे आग लगा देते है और उसे अपने खेत में ही जला देते है वैसे किसानो को अब कृषि अनुदान के लाभ से वंचित रखा जाएगा और उनको अब ये लाभ नहीं मिलेगा
क्या है नियम
बिहार कृषि विभाग ने पहले से ही ये नियम लगा दिया है की वैसे किसान जो अपने खेत में परली जलाते है उनको किसी भी तरह का अनुदान नहीं दिया जाएगा और सरकार के तरफ से मिलने वाले किसी भी अनुदान में उनका आवेदन कृषि समन्यवय के स्तर से रद्द कर दिया जाएगा और कृषि समन्वय इस बात का ध्यान रखेंगे. पर इस नियम का पालन नहीं किया जा रहा है और इसकी बहुत ही ज्यादा शिकायत मिल रही थी जिसके कारण इन नियमो में कुछ और भी बदलाव करते हुए इसको और शक्त कर दिया गया है.
परली जलने से क्या नुकसान है.
सरकार परली जलने के लिए इसलिए किसानो को मना करती है कुय्की इस से बहुत सरे नुकसान हो रहे है आम लोगो को भी और किसानो को भी किसान ये समझते है की परली जलने से हमारे खेतो में उपज ज्यादा होगा पर ऐसा नहीं है जब किसान परली जलाते है तो जो खेत में मौजूद सभी प्रकार की कुदरती मिनरल जो की खेत में उबरक का काम करती है वो गर्मी के वजह से या तो ख़तम हो जाती है या किसी काम की नहीं होती ऐसे मे आपके पैदावार पर भी असर होता है.




दूसरी जो सबसे बड़ी वजह है वह ये है की इसके वजह से जो पशुपालक किसान है उनको परेशानी होती है वैसे किसानो को अपने पशु के लिए चारा नहीं मिल पता है और सरकार चाहती है की पशुपालक को बढावा दिया जाये पर ऐसे नहीं हो पता है किसानो के परली जलने के कारण से इसलिए यह नियम लगाया गया है.
नियम में यह बदलाव हुआ है
जैसा की मैंने बताया की नियमो में भी कुछ बदलाव किये गए है इस नियम को सक्त बनाने के लिए ऐसे में सरकार ने आदेश दिया है की किसानो पे कड़ी नजर रखा जाये साथ ही वैसे किसानो को नामांकित किया जाये जो ऐसा करते है और उनको इस लाभ से वंचित किया जाये




साथ ही सभी हार्वेस्टर चालक और मालिक से एक सपथ पत्र भी भरवाया जाएगा की उनके द्वारा काटे गए किसी भी खेत में कोई भी किसान पराली नहीं जलाएगा नहीं तो वह यह खेत नहीं काटेंगे तो ये सभी बदलाव किये गए है नियमो में कृषि विभाग के तरफ से.
Important Links (महत्वपूर्ण लिंक)बिहार कृषि विभाग
कृषि विभाग वेबसाइट Click Here
PM किसान बड़ी अपडेट Click Here

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top